रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 03:34 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
अमेरिकी मानवाधिकारों पर चीन ने जारी की रिपोर्ट
बीजिंग, एजेंसी First Published:26-05-12 08:50 PM

चीन ने अमेरिका के मानवाधिकार हनन को लेकर अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। चीन का यह कदम अमेरिका की उस रिपोर्ट का जवाब माना जा रहा है जिसमें वाशिंगटन ने चीन में मानवाधिकार हनन को लेकर चिंता जताई है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

समाचार पत्र ‘पीपुल्स डेली’ के मुताबिक चीन के सूचना विभाग ने ‘वर्ष 2011 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में मानवाधिकार रिकॉर्ड’ नाम से रिपोर्ट जारी की है। चीन ने यह रिपोर्ट अमेरिका के विदेश मंत्रलय द्वारा 24 मई को जारी ‘कंट्री रिपोर्ट्स आन ह्यूमन राइट्स प्रैक्टिसेज फार 2011’ के जवाब में जारी किया है।

बीजिंग के मुताबिक अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में चीन के मानवाधिकार हनन के मामलों को बहुत ही बढ़ा-चढ़ाकर और तोड़-मरोड़कर पेश किया है। रिपोर्ट में कहा गया, ‘अमेरिका ने हालांकि, अपने यहां के दुखद मानवाधिकार की स्थिति पर आंखें मूंद और चुप्पी साध रखी है।’

चीन की रिपोर्ट में छह विषयों से जुड़े मानवाधिकार के मुद्दों को शामिल किया गया। ये विषय-जीवन, सम्पत्ति एवं निजी सुरक्षा, नागरिक एवं राजनीति अधिकार, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक अधिकार, नस्लीय भेदभाव, महिला एवं बाल अधिकार और अन्य देशों में अमेरिका का मानवाधिकार उल्लंघन के थे।

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में नागरिक एवं राजनीतिक अधिकारों का गम्भीर उल्लंघन हुआ है। अमेरिका खुद को बंधनहीन देश के रूप पेश कर अपने आप से झूठ बोल रहा है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हांग लेई ने शुक्रवार को अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण बताया और वाशिंगटन से अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने की अपील की।
 
 
 
टिप्पणियाँ