शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 08:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ISIS के चंगुल से छुड़ाए गए दो भारतीय, दो को आजाद कराने की कोशिश जारी EXCLUSIVE: देश में सबसे ज्यादा लापता हो रहे हैं यूपी के बच्चे 'हिंदू आतंकवाद' शब्द ने आतंक के खिलाफ जंग कमजोर की: राजनाथ चूहे के कारण बीच रास्ते से लौटा 200 यात्रियों वाला एयर इंडिया का विमान भारत-बांग्लादेश के बीच गांवों की अदला-बदली शुरू, नवंबर से होगी लोगों की अदला-बदली  बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात
अमेरिकी मानवाधिकारों पर चीन ने जारी की रिपोर्ट
बीजिंग, एजेंसी First Published:26-05-2012 08:50:06 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

चीन ने अमेरिका के मानवाधिकार हनन को लेकर अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। चीन का यह कदम अमेरिका की उस रिपोर्ट का जवाब माना जा रहा है जिसमें वाशिंगटन ने चीन में मानवाधिकार हनन को लेकर चिंता जताई है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

समाचार पत्र ‘पीपुल्स डेली’ के मुताबिक चीन के सूचना विभाग ने ‘वर्ष 2011 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में मानवाधिकार रिकॉर्ड’ नाम से रिपोर्ट जारी की है। चीन ने यह रिपोर्ट अमेरिका के विदेश मंत्रलय द्वारा 24 मई को जारी ‘कंट्री रिपोर्ट्स आन ह्यूमन राइट्स प्रैक्टिसेज फार 2011’ के जवाब में जारी किया है।

बीजिंग के मुताबिक अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में चीन के मानवाधिकार हनन के मामलों को बहुत ही बढ़ा-चढ़ाकर और तोड़-मरोड़कर पेश किया है। रिपोर्ट में कहा गया, ‘अमेरिका ने हालांकि, अपने यहां के दुखद मानवाधिकार की स्थिति पर आंखें मूंद और चुप्पी साध रखी है।’

चीन की रिपोर्ट में छह विषयों से जुड़े मानवाधिकार के मुद्दों को शामिल किया गया। ये विषय-जीवन, सम्पत्ति एवं निजी सुरक्षा, नागरिक एवं राजनीति अधिकार, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक अधिकार, नस्लीय भेदभाव, महिला एवं बाल अधिकार और अन्य देशों में अमेरिका का मानवाधिकार उल्लंघन के थे।

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में नागरिक एवं राजनीतिक अधिकारों का गम्भीर उल्लंघन हुआ है। अमेरिका खुद को बंधनहीन देश के रूप पेश कर अपने आप से झूठ बोल रहा है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हांग लेई ने शुक्रवार को अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण बताया और वाशिंगटन से अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने की अपील की।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड