गुरुवार, 18 दिसम्बर, 2014 | 21:46 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
भूकंप की तीव्रता 5.2 मापी गई। केंद्र नेपाल में।सहरसा, खगड़िया, पूर्णिया में भी झटके महसूस किए गए। हैं। तीव्रता कम रही। कहीं नुकसान की सूचना नहीं है।समस्तीपुर, मधुबनी व मुजफ्फरपुर में 9.03 बजे भूकंप के हल्के झटके लोगों ने महसूस किये हैं।यूपी में आगरा सबसे ठंडा। न्यूनतम तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस रहा।नक्सली हमले की आशंका, पुलिस ने की फायरिंग, शाम पांच बजे की घटनाअमड़ापाड़ा चेकपोस्ट से दो जवान हथियार समेत गायबलखवी को दी गई जमानत बेहद दुर्भाग्यपूर्ण: राजनाथएलएन मिश्रा हत्‍याकांड में चार दोषियों को उम्रकैद
अमेरिकी मानवाधिकारों पर चीन ने जारी की रिपोर्ट
बीजिंग, एजेंसी First Published:26-05-12 08:50 PM

चीन ने अमेरिका के मानवाधिकार हनन को लेकर अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। चीन का यह कदम अमेरिका की उस रिपोर्ट का जवाब माना जा रहा है जिसमें वाशिंगटन ने चीन में मानवाधिकार हनन को लेकर चिंता जताई है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

समाचार पत्र ‘पीपुल्स डेली’ के मुताबिक चीन के सूचना विभाग ने ‘वर्ष 2011 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में मानवाधिकार रिकॉर्ड’ नाम से रिपोर्ट जारी की है। चीन ने यह रिपोर्ट अमेरिका के विदेश मंत्रलय द्वारा 24 मई को जारी ‘कंट्री रिपोर्ट्स आन ह्यूमन राइट्स प्रैक्टिसेज फार 2011’ के जवाब में जारी किया है।

बीजिंग के मुताबिक अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में चीन के मानवाधिकार हनन के मामलों को बहुत ही बढ़ा-चढ़ाकर और तोड़-मरोड़कर पेश किया है। रिपोर्ट में कहा गया, ‘अमेरिका ने हालांकि, अपने यहां के दुखद मानवाधिकार की स्थिति पर आंखें मूंद और चुप्पी साध रखी है।’

चीन की रिपोर्ट में छह विषयों से जुड़े मानवाधिकार के मुद्दों को शामिल किया गया। ये विषय-जीवन, सम्पत्ति एवं निजी सुरक्षा, नागरिक एवं राजनीति अधिकार, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक अधिकार, नस्लीय भेदभाव, महिला एवं बाल अधिकार और अन्य देशों में अमेरिका का मानवाधिकार उल्लंघन के थे।

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में नागरिक एवं राजनीतिक अधिकारों का गम्भीर उल्लंघन हुआ है। अमेरिका खुद को बंधनहीन देश के रूप पेश कर अपने आप से झूठ बोल रहा है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हांग लेई ने शुक्रवार को अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण बताया और वाशिंगटन से अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने की अपील की।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड