गुरुवार, 29 जनवरी, 2015 | 15:43 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पटना विश्वविद्यालय के सिनेट की बैठक के दौरान विरोध कर रहे छात्रों पर लाठी चार्ज, छपरा संघ के चुनाव की मांग को लेकर विरोधमुरादाबाद: वकीलों ने दिया सिटी मजिस्ट्रेट को ज्ञापन। आज का आंदोलन समाप्त। कल रेल रोकेंगे। वकीलों की सीओ से नोंकझोंक भी हुई।लोकायुक्त की रिपोर्ट के बाद यूपी के दो विधायक बर्खास्तसंभल के मोहल्ला ठेर में रूम हीटर से दम घुटने की वजह से एक व्यापारी की मौत हो गई। कमरे में व्यापारी के साथ सो रही उसकी पत्नी व एक साल के मासूम की हालत भी गंभीर।अमरोहा के मेहंदीपुर गांव में नकली दूध बनाने की फैक्टी पकड़ी. पचास लीटर दूध व सामान बरामद. खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की कार्रवाई.बरेली के फतेहगंज पश्चिमी कस्बे में प्रॉपर्टी डीलर के घर लाखों का डाकाआगरा : हाईकोर्ट बेंच को लेकर वकीलों में आपसी टकराव, संघर्ष समिति और ग्रेटर बार के पदाधिकारी भिड़े, बड़ी संख्या में फोर्स तैनात, पुलिस को फटकारनी पड़ीं लाठियांरामपुर के लालपुर में ट्रैक्टर ने बालक को रौंदा, मौत। हादसे के बाद हंगामा।
अमेरिकी मानवाधिकारों पर चीन ने जारी की रिपोर्ट
बीजिंग, एजेंसी First Published:26-05-12 08:50 PM

चीन ने अमेरिका के मानवाधिकार हनन को लेकर अपनी एक रिपोर्ट जारी की है। चीन का यह कदम अमेरिका की उस रिपोर्ट का जवाब माना जा रहा है जिसमें वाशिंगटन ने चीन में मानवाधिकार हनन को लेकर चिंता जताई है। एक मीडिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई।

समाचार पत्र ‘पीपुल्स डेली’ के मुताबिक चीन के सूचना विभाग ने ‘वर्ष 2011 में संयुक्त राष्ट्र अमेरिका में मानवाधिकार रिकॉर्ड’ नाम से रिपोर्ट जारी की है। चीन ने यह रिपोर्ट अमेरिका के विदेश मंत्रलय द्वारा 24 मई को जारी ‘कंट्री रिपोर्ट्स आन ह्यूमन राइट्स प्रैक्टिसेज फार 2011’ के जवाब में जारी किया है।

बीजिंग के मुताबिक अमेरिका ने अपनी रिपोर्ट में चीन के मानवाधिकार हनन के मामलों को बहुत ही बढ़ा-चढ़ाकर और तोड़-मरोड़कर पेश किया है। रिपोर्ट में कहा गया, ‘अमेरिका ने हालांकि, अपने यहां के दुखद मानवाधिकार की स्थिति पर आंखें मूंद और चुप्पी साध रखी है।’

चीन की रिपोर्ट में छह विषयों से जुड़े मानवाधिकार के मुद्दों को शामिल किया गया। ये विषय-जीवन, सम्पत्ति एवं निजी सुरक्षा, नागरिक एवं राजनीति अधिकार, आर्थिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक अधिकार, नस्लीय भेदभाव, महिला एवं बाल अधिकार और अन्य देशों में अमेरिका का मानवाधिकार उल्लंघन के थे।

रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका में नागरिक एवं राजनीतिक अधिकारों का गम्भीर उल्लंघन हुआ है। अमेरिका खुद को बंधनहीन देश के रूप पेश कर अपने आप से झूठ बोल रहा है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हांग लेई ने शुक्रवार को अमेरिकी विदेश विभाग की रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण बताया और वाशिंगटन से अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप न करने की अपील की।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड