मंगलवार, 04 अगस्त, 2015 | 00:35 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अगला बिहार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी राबड़ी देवी कांवड़ यात्रा से बरेली के कई पंपों पर डीजल-पेट्रोल खत्‍म  आखिर यूं ही नहीं बनती 'बाहुबली', जानिए 10 बेहद खास राज  भारत से प्रभावित होकर अंग्रेजों ने ब्रिटेन में भी बसा दिया 'पटना'  तृणमूल ने दिखाई कांग्रेस के साथ एकजुटता, लोकसभा की कार्यवाही का पांच दिनों तक करेगी बहिष्कार 14 साल से पाकिस्तान में फंसी भारतीय लड़की को बजरंगी भाईजान की जरूरत श्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान राफेल नडाल ने जीता हैम्बर्ग ओपन खिताब चेल्सी बीते सत्र में ही ईपीएल खिताब का हकदार था: कोम्पेनी साध्वी प्राची को अस्पताल से डिस्चार्ज किए जाने पर हंगामा
परंपरा और आस्था का प्रतीक: रंगोली
सुमन बाजपेयी First Published:15-10-2009 01:05:22 PMLast Updated:15-10-2009 01:08:01 PM

घर-आंगन, प्रवेश द्वार पर या दरवाजों के सामने बने खूबसूरत डिजाइन में बिखरे अनगिनत रंगों को देखते ही मन में एक उल्लास भर जाता है। मौका यदि किसी त्योहार या समारोह का हो तो फिर रंगों की छटा बिखेरती रंगोली का देहरी पर होना त्योहार की रंगत और पावनता को कई गुणा बढ़ा देता है। रंगोली हमारी सुखद कामनाओं और मन की खुशियों को रंगों में सराबोर कर देती है। रंगोली में आड़ी-तिरछी, त्रिकोण, आयत व वृत्ताकार आकृतियों को हल्दी, कुंकुम, रंग-बिरंगे फूलों, चावल के आटे आदि से सजाया जाता है। माना जाता है कि ये रेखाएं बुरी नजर और विपदाओं से बचाती हैं। दक्षिण भारत में रंगोली को  कोलम, गुजरात में सतिया, महाराष्ट्र में रंगोली, मध्य प्रदेश में सांझी, राजस्थान में मांडना, उत्तर भारत में चौकपूरना, बंगाल में अल्पना व बिहार में अरिचन के नाम से पुकारा जाता है।
रंगोली बनाने के लिए मुख्यतया खड़िया मिट्टी, गेरू, चावल के आटे व अलग-अलग किस्म के प्राकृतिक रंगों का प्रयोग किया जाता है। दीवाली पर रंगोली में सात दीपक, फुलझड़ी, कलश, लक्ष्मी जी के पांव, मोर, सूर्य, चांद आदि बनाने की परंपरा है। दीवाली पर लक्ष्मी मां का स्वागत करने के लिए इसे घर के दरवाजे पर बनाया जाता है। 

रंगोली डिजाइन
पारंपरिक ढंग से रंगोली के डिजाइन एक विशेष तरह से बनाए जाते हैं। हालांकि यह डिजाइन अब बहुत सरल व ट्रैंडी होते जा रहे हैं। फ्यूजन लुक इनमें भी दिखाई दे रहा है।  ज्यामितीय डिजाइनों के अलावा फ्लोरल, स्टाइलिश लुक भी इनमें देखने को मिल रहा है। आम रंगोली के डिजाइन बिंदुओं से बनाए जाते हैं। एक-एक बिंदु को जोड़ते हुए लाइनें व आकृतियां बनाई जती हैं। अलग-अलग रंगों के फूलों की पत्तियां भी इन जगहों पर भरी जाती हैं। रंगोली के किनारों पर कमल और लक्ष्मी जी के पांव बनाए जाते हैं। बाजार में आज कई चीजें उपलब्ध हैं, जिनकी सहायता से परंपरा को बरकरार रखते हुए उसमें मॉडर्न टच दिया जा सकता है। रंगोली बनाने की मशीन भी बाजार में मिलने लगी है, जिसमें छेद होते हैं। उनमें पाउडर भर आप मनचाहा आकार तैयार कर सकती हैं। इसके अलावा चावल का पाउडर व रेत या लकड़ी का बुरादा भी अलग-अलग रंगों में मिलता है, जिसका पेस्ट बना कर प्लास्टिक के कोण से आप घर में रंगोली तैयार कर सकते हैं। कलर्ड चॉक और सिंथेटिक डाई का भी प्रयोग किया जा रहा है। यही नहीं,आप प्लास्टिक व स्टील के रंगोली स्टेंसिल भी खरीद सकते हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान
टेस्ट कप्तान के तौर पर अपनी पहली संपूर्ण तीन मैचों की सीरीज के लिये श्रीलंका दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहे विराट कोहली ने कहा है कि उनकी योजना श्रीलंका में पांच गेंदबाजों को उतारने की रहेगी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?