रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 12:26 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    एयर इंडिंया के कई पायलट खत्म लाइसेंस पर उड़ा रहे हैं विमान राजनाथ ने युवाओं से शांति और सौहार्द का संदेश फैलाने को कहा  शीतकालीन सत्र से पहले नए योजना निकाय का गठन कर सकती है सरकार  आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, मोदी भी हुये शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर
परंपरा और आस्था का प्रतीक: रंगोली
सुमन बाजपेयी First Published:15-10-09 01:05 PMLast Updated:15-10-09 01:08 PM

घर-आंगन, प्रवेश द्वार पर या दरवाजों के सामने बने खूबसूरत डिजाइन में बिखरे अनगिनत रंगों को देखते ही मन में एक उल्लास भर जाता है। मौका यदि किसी त्योहार या समारोह का हो तो फिर रंगों की छटा बिखेरती रंगोली का देहरी पर होना त्योहार की रंगत और पावनता को कई गुणा बढ़ा देता है। रंगोली हमारी सुखद कामनाओं और मन की खुशियों को रंगों में सराबोर कर देती है। रंगोली में आड़ी-तिरछी, त्रिकोण, आयत व वृत्ताकार आकृतियों को हल्दी, कुंकुम, रंग-बिरंगे फूलों, चावल के आटे आदि से सजाया जाता है। माना जाता है कि ये रेखाएं बुरी नजर और विपदाओं से बचाती हैं। दक्षिण भारत में रंगोली को  कोलम, गुजरात में सतिया, महाराष्ट्र में रंगोली, मध्य प्रदेश में सांझी, राजस्थान में मांडना, उत्तर भारत में चौकपूरना, बंगाल में अल्पना व बिहार में अरिचन के नाम से पुकारा जाता है।
रंगोली बनाने के लिए मुख्यतया खड़िया मिट्टी, गेरू, चावल के आटे व अलग-अलग किस्म के प्राकृतिक रंगों का प्रयोग किया जाता है। दीवाली पर रंगोली में सात दीपक, फुलझड़ी, कलश, लक्ष्मी जी के पांव, मोर, सूर्य, चांद आदि बनाने की परंपरा है। दीवाली पर लक्ष्मी मां का स्वागत करने के लिए इसे घर के दरवाजे पर बनाया जाता है। 

रंगोली डिजाइन
पारंपरिक ढंग से रंगोली के डिजाइन एक विशेष तरह से बनाए जाते हैं। हालांकि यह डिजाइन अब बहुत सरल व ट्रैंडी होते जा रहे हैं। फ्यूजन लुक इनमें भी दिखाई दे रहा है।  ज्यामितीय डिजाइनों के अलावा फ्लोरल, स्टाइलिश लुक भी इनमें देखने को मिल रहा है। आम रंगोली के डिजाइन बिंदुओं से बनाए जाते हैं। एक-एक बिंदु को जोड़ते हुए लाइनें व आकृतियां बनाई जती हैं। अलग-अलग रंगों के फूलों की पत्तियां भी इन जगहों पर भरी जाती हैं। रंगोली के किनारों पर कमल और लक्ष्मी जी के पांव बनाए जाते हैं। बाजार में आज कई चीजें उपलब्ध हैं, जिनकी सहायता से परंपरा को बरकरार रखते हुए उसमें मॉडर्न टच दिया जा सकता है। रंगोली बनाने की मशीन भी बाजार में मिलने लगी है, जिसमें छेद होते हैं। उनमें पाउडर भर आप मनचाहा आकार तैयार कर सकती हैं। इसके अलावा चावल का पाउडर व रेत या लकड़ी का बुरादा भी अलग-अलग रंगों में मिलता है, जिसका पेस्ट बना कर प्लास्टिक के कोण से आप घर में रंगोली तैयार कर सकते हैं। कलर्ड चॉक और सिंथेटिक डाई का भी प्रयोग किया जा रहा है। यही नहीं,आप प्लास्टिक व स्टील के रंगोली स्टेंसिल भी खरीद सकते हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ