शुक्रवार, 04 सितम्बर, 2015 | 09:16 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
दूसरे विकल्प बने ब्लू लाइन जैसे जानलेवा
नई दिल्ली अंकुर शर्मा First Published:30-04-2012 12:30:23 AMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

दिल्ली की सड़कों से ब्लू लाइन बसों का खौफ भले ही खत्म हो गया हो, मगर सड़क हादसों में लोगों का मारा जाना बदस्तूर जारी है। दिल्ली पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक इस साल पहले चार महीनों में डीटीसी, ग्रामीण सेवा, मिनी बस या आरटीवी और अन्य बसों ने पिछले बार के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा लोगों की जान ली है।

हालांकि सड़क हादसों में मरने वालों की संख्या कम हुई है। पिछले साल सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वालों की संख्या 610 थी, जो इस साल घटकर 497 हो गई। इस साल दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के लिए बड़ी चुनौती ग्रामीण सेवा और आरटीवी या मिनी बसें हैं। दूसरी चुनौती है टेंपो, ट्रैक्टर और कंटेनर। इनकी वजह से पिछले साल के मुकाबले इस बार 14 अधिक जानें गईं। वहीं पिछले साल 28 के मुकाबले इस वर्ष 33 ड्राइवर मारे गए।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingसंगाकारा का ट्विटर हुआ हैक, आपत्तिजनक ट्वीट के लिए मांगी माफी
अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर को हाल ही में अलविदा कहने वाले श्रीलंका के दिग्गज विकेटकीपर/बल्लेबाज कुमार संगाकारा ने बुधवार को कहा कि उनका ट्विटर अकाउंट हैक कर लिया गया था।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

जब संता गया बैंक लूटने...
संता बैंक में डकैती डालने पहुंचा मगर रिवॉलवर घर पर ही भूल गया...
मगर बैंक फिर भी लूट लाया बताओ कैसे?
क्योंकि बैंक मैनेजर बंता था...
बंता: (संता से बोला) कोई बात नहीं...पैसे ले जाओ रिवॉलवर कल दिखा जाना!!