सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 02:31 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
दूसरे विकल्प बने ब्लू लाइन जैसे जानलेवा
नई दिल्ली अंकुर शर्मा First Published:30-04-12 12:30 AM

दिल्ली की सड़कों से ब्लू लाइन बसों का खौफ भले ही खत्म हो गया हो, मगर सड़क हादसों में लोगों का मारा जाना बदस्तूर जारी है। दिल्ली पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक इस साल पहले चार महीनों में डीटीसी, ग्रामीण सेवा, मिनी बस या आरटीवी और अन्य बसों ने पिछले बार के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा लोगों की जान ली है।

हालांकि सड़क हादसों में मरने वालों की संख्या कम हुई है। पिछले साल सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वालों की संख्या 610 थी, जो इस साल घटकर 497 हो गई। इस साल दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के लिए बड़ी चुनौती ग्रामीण सेवा और आरटीवी या मिनी बसें हैं। दूसरी चुनौती है टेंपो, ट्रैक्टर और कंटेनर। इनकी वजह से पिछले साल के मुकाबले इस बार 14 अधिक जानें गईं। वहीं पिछले साल 28 के मुकाबले इस वर्ष 33 ड्राइवर मारे गए।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड