रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 08:23 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
दूसरे विकल्प बने ब्लू लाइन जैसे जानलेवा
नई दिल्ली अंकुर शर्मा First Published:30-04-12 12:30 AM

दिल्ली की सड़कों से ब्लू लाइन बसों का खौफ भले ही खत्म हो गया हो, मगर सड़क हादसों में लोगों का मारा जाना बदस्तूर जारी है। दिल्ली पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक इस साल पहले चार महीनों में डीटीसी, ग्रामीण सेवा, मिनी बस या आरटीवी और अन्य बसों ने पिछले बार के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा लोगों की जान ली है।

हालांकि सड़क हादसों में मरने वालों की संख्या कम हुई है। पिछले साल सड़क दुर्घटनाओं में जान गंवाने वालों की संख्या 610 थी, जो इस साल घटकर 497 हो गई। इस साल दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के लिए बड़ी चुनौती ग्रामीण सेवा और आरटीवी या मिनी बसें हैं। दूसरी चुनौती है टेंपो, ट्रैक्टर और कंटेनर। इनकी वजह से पिछले साल के मुकाबले इस बार 14 अधिक जानें गईं। वहीं पिछले साल 28 के मुकाबले इस वर्ष 33 ड्राइवर मारे गए।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ