शुक्रवार, 24 अक्टूबर, 2014 | 22:18 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो अमेरिकी विदेश विभाग में पहली बार मनी दीवाली एनआईए प्रमुख ने बर्दवान विस्फोट की जांच का जायजा लिया आईएस के आतंकवादी अब दुनिया में सबसे धनी : विशेषज्ञ
अमला हिट तो रोहित रहे फ्लॉप
सेंचुरियन, एजेंसी First Published:24-01-11 03:25 PMLast Updated:24-01-11 03:29 PM
Image Loading

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच संपन्न पांच मैचों की एकदिवसीय सीरीज़ में मेजबान टीम के हाशिम अमला ने अपने बल्ले की रंगत दिखाई तो मेहमान टीम के रोहित शर्मा को मानो जंग लग गया। अमला ने पांच मैचों में 62.50 की बेहतरीन औसत के साथ सर्वाधिक 250 रन बनाए जिसमें सेंचुरियन में अंतिम मैच में खेली नाबाद 116 रन की पारी भी शमिल है जिसकी वजह से टीम 3-2 से सीरीज़ जीतने में सफल रही।

अमला के अलावा दक्षिण अफ्रीका के ही जेपी डुमिनी (244 रन) भी दो सौ रन के आंकड़े को पार करने में सफल रहे। उन्होंने 61 की औसत से ये रन बनाए। दूसरी तरफ भारत के रोहित शर्मा ने निराश किया। वह सीरीज़ के पांच मैचों में 9.80 की औसत से 49 रन ही बना सके जिसमें उनका सर्वाधिक स्कोर 23 रन रहा।
    
भारत की ओर से इस सीरीज़ में सबसे सफल बल्लेबाज विराट कोहली रहे जिन्होंने पांच मैचों में 48.25 की प्रभावी औसत से 193 रन बनाए। उनके अलावा यूसुफ पठान भी तीन मैचों में 55.33 की औसत से एक शतक और एक अर्धशतक की मदद से 166 रन के साथ शीर्ष पांच बल्लेबाजों में जगह बनाने में सफल रहे।
     
पठान ने अंतिम एकदिवसीय मैच में 105 रन की पारी के दौरान मात्र 68 गेंद में शतक पूरा किया जो भारत की ओर से छठा सबसे तेज शतक है। कोहली और पठान के अलावा सिर्फ सुरेश रैना ही इस सीरीज़ में भारत की ओर से 100 रन के आंकड़े को पार कर पाए। उन्होंने पांच मैचों में 22 से कुछ अधिक की औसत से 111 रन बनाए।

युवराज सिंह (पांच मैचों में 18.20 की औसत से 91 रन), कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (पांच मैचों में 15 की औसत से 75 रन) और मुरली विजय (तीन मैचों में छह की औसत से 18 रन) ने हालांकि सीरीज़ के दौरान निराश किया। दूसरी तरफ दक्षिण अफ्रीका की ओर से ग्रेम स्मिथ (156) और एबी डिविलियर्स (114) 100 से अधिक रन बनाने में सफल रहे।
     
गेंदबाजी में भी दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों का दबदबा रहा। मेजबान टीम के लोनवाबो सोतसोबे ने पांच मैचों की सीरीज़ के दौरान 13.53 की औसत से सर्वाधिक 13 विकेट चटकाए जबकि मोर्ने मोर्कल भी 11.41 की बेजोड़ औसत के साथ 12 विकेट हासिल करने में सफल रहे जिसके लिए उन्हें मैच ऑफ द सीरीज़ भी चुना गया। भारत की ओर से सबसे सफल गेंदबाज मुनाफ पटेल रहे जिन्होंने 18.72 की औसत से 11 विकेट चटकाए।

उन्होंने इस दौरान भारत की ओर से द्विपक्षीय सीरीज़ में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सर्वाधिक विकेट चटकाने का रिकॉर्ड भी बनाया। जहीर खान ने भी 25 से कुछ अधिक की औसत से नौ विकेट हासिल किए। हरभजन सिंह और आशीष नेहरा ने हालांकि निराश किया। हरभजन पांच मैचों में चार ही विकेट हासिल कर पाए जबकि इस दौरान उनका औसत 51 से अधिक का रहा।

नेहरा ने चार मैचों में तीन विकेट के लिए 58 की औसत से रन खर्च किए। भारत की ओर से युवराज और रोहित शर्मा ने हालांकि अपनी कामचलाउ गेंदबाजी से बेहतर प्रदर्शन किया। युवराज ने 28.80 की औसत से पांच जबकि रोहित ने 22.33 की औसत से तीन विकेट चटकाए।
 
 
 
 
टिप्पणियाँ