गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 06:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी बलात्कार मामलों में कोई समझौता नहीं, औरत का शरीर उसके लिए मंदिर के समान होता है: सुप्रीम कोर्ट अब यूपी पुलिस 'चुड़ैल' को ढूंढेगी, जानिए क्या है पूरा मामला  खुलासा: एक रुपया तैयार करने का खर्च एक रुपये 14 पैसे दार्जिलिंग: भूस्‍खलन के कारण 38 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक, 2-2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान यूनान ने किया डिफॉल्ट, नहीं चुकाया अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष का कर्ज विकी‍पीडिया पर नेहरू को मुस्लिम बताये जाने पर भड़की कांग्रेस, पूछा अब क्या कार्रवाई करेगी मोदी सरकार PHOTO: जब मंत्रीजी ने पकड़ी लेडी डॉक्टर की कॉलर और बोले... ललित मोदी के ट्वीट पर बवाल, भाजपा नहीं करेगी वरुण गांधी का बचाव
अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों का समायोजन होगा, मानदेय मिलेगा
htranchi2 htranchi2
अनौपचारिक शिक्षा प्रशिक्षित अनुदेशकों ने मंगलवार को शिक्षा सचिव और निदेशक से वार्ता के बाद सामूहिक आत्मदाह के कार्यक्रम को स्थगित कर दिया। इनकी मांगों में सेवा समायोजन और बकाये मानदेय का भुगतान शामिल हैं। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत राज्यभर के अनुदेशक विधानसभा स्थित बिरसा चौक के निकट धरना दिया। दिन के दो बजे सामूहिक आत्मदाह करने का कार्यक्रम तय था। इससे पहले ही प्रशासन की आेर से वार्ता की पहल की गयी।ड्ढr धरनास्थल पर दंडाधिकारी के रूप में प्रतिनियुक्त बेड़ो सीआे परवेज इब्राहिम ने एक प्रतिनिधिमंडल को लेकर सचिवालय गये। वहां शिक्षा सचिव जेवी तुबिद और निदेशक पीसी मिश्रा के साथ प्रतिनिधिमंडल की अलग-अलग वार्ता हुई। वार्ता से लौटने के बाद प्रतिनिधिमंडल में शामिल अनुदेशकों ने बताया कि सचिव और निदेशक ने अप्रैल तक उनकी समस्याआें के समाधान का आश्वासन दिया है। सचिव ने कहा कि सरकार के पास अनुदेशकों की सूची उपलब्ध नहीं है। इसके लिए उपायुक्तों को पत्र लिखा जायेगा। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल को उपायुक्तों को सूची उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है, ताकि उस पर अग्रेत्तर कार्रवाई की जा सके।ड्ढr प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि सरकार से इतनी सौहाद्र्रपूर्ण वार्ता इससे पहले कभी नहीं हुई थी। सचिवालय की घटना को ध्यान में रख कर सीटी एसपी रिचर्ड लकड़ा, एसडीआे मनोज कुमार, हटिया डीएसपी चंद्रशेखर प्रसाद और पुलिस के अन्य पदाधिकारी धरनास्थल पर लगातार कैंप किये हुए थे। सुरक्षा की दृष्टिकोण से बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात थे।
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड